Comments

अभिव्यक्ती इंडिया या संकेत स्थळावर आपले सहर्ष स्वागत.

Thursday, February 11, 2016

0 अंधेरे उजाले सुहाते रहे हैं


......
अंधेरे उजाले सुहाते रहे हैं 
दिलोंको दिलोमें बसाते रहे हैं I
*
मुहब्बत जताते सताते रहे हैं  
हमें प्यार वो भी सिखाते रहे हैं I
*
दिया वो बुझाकर सरे आम प्यारे
हटाकर पर्दा, मुस्कुराते रहे हैं I
*
सपन वो हमें भी दिखाते दिखाते
वहीं खो गये यूं कि सोते रहे हैं I 
*
मिलें जब हमें आमने सामने वो
नजर को झुकाकर बुलाते रहे हैं I
*
मिला साथ उन का भलाई जो' समझे
हमें वो बेलन से डराते रहे हैं I

               -    प्रकाश पटवर्धन,  

No comments: